Follow by Email

Sunday, 18 August 2013

बला  का रूप , ये तेवर , सरापा  धार  हीरे  की ,
किसी के जान से जाने में कितनी  देर लगती है।
मनीष शुक्ल 

No comments:

Post a Comment