Follow by Email

Monday, 24 November 2014





                                                         غزل 




                                 سوچتے    ہیں   کہ    دل   لگانے   دیں 
                                 خود   کو   کچھ   دن  فریب  کھانے  دیں 


                                 جی   لگائیں   کہیں    کسی    شے    پر 
                                 خود   کو   خود  سے  نجات  پانے   دیں 


                                 دل    تو    سادہ      مزاج     ہے    اپنا 
                                 مانتا    ہے    تو     مان    جانے    دیں 


                                 ضبط    کرتے     رہیں     قیامت     تک 
                                 درد     کو      دائرہ      بڑھانے     دیں 

                                شب کے ھاتھوپں میں سونپ دیں  خود کو 
                                 بات    کرنے    دیں      گدگدانے     دیں 
         
                                 خود   کو   ساحل   پہ   چھوڈ   دیں   تنہا 
                                 ریت    پر    نقش   پا      بنانے      دیں 


                                 زندگی    ہے    تو   لگزشیں    بھی   ہیں 
                                 اس   کے    قدموں    کو  ڈگمگانے   دیں 
                           
                                 اس  کے خوابوں  کو  چھین لیں  اس  سے 
                                 اپنے  خوابوں    کو   بھی   چرانے    دیں 



                                 چھوٹ    دے     دیں    زبان    کو   اپنی
                                 نام     لے   کر     ترا     بلانے      دیں 



                                 آکے    سرگوشیاں     کرے     ہم    سے 
                                 اس   کو     اتنا      قریب     آنے    دیں 



                                 گل  کریں    خواب    کے    چراغوں   کو 
                                 چاند    تاروں     کو     نیند    آنے    دیں 



                                 منش شکلا 












             غزل

      
                 کوئی   تلاش  ادھوری  سی   رہ  گیئ  مجھ  میں 
                 کھٹک رہی  ہے  کسی  بات  کی  کمی  مجھ  میں 


                بہت    وسیع   ہے   میرے   غموں    کی   پہنائ

                      پناہ   مانگنے لگتی  ہے  ہر  خوشی   مجھ  میں      
                                     
                 کہاں   ہے   سہل   کسی    لفظ   کا    رواں   ہونا 
                 ٹھہر گیئ   ہے  بڑی  سخت  خامشی   مجھ   میں 


                 سفر  کی   رسم  نبھانے  کو  چل  رہا   ہوں  میں 

                 وگرنہ   تاب    سفر   اب   کہاں  بچی   مجھ  میں 


                  خیال   و  خواب   پہ   کائی   سی   جم   گئ    آخر 

                   ازل سے ٹھہری ہوئی  ہے  کوئی  ندی   مجھ  میں 


                   عجیب   رنگ    رہا    دل     کے     کارخانے   کا 

                  نہ  روشنی   ہی  سلامت  نہ   تیرگی  مجھ    میں 


                   وہ  آسماں   ہوں   کہ  ماتم  نصیب  ہے   جس  کا 

                     ستارے  روز  ہی  کرتے  ہیں  خودکشی  مجھ  میں 


                   وہ   ایک    بار   مرے   ساحلوں   پہ   اترا    تھا 

                    پھر اس  کے بعد  فقط  ریت  رہ  گئی   مجھ   میں 


                                          منش شکلا 




Saturday, 1 November 2014



चमन में मिरे अधखिली सी कली ये ,
निगार ए बहाराँ से बहकी हुई  है ,
मिरी रूह मेरे घरोंदे की मिटटी ,
तर ओ ताज़ा खुशबु से बहकी हुई है 
                  लहकती चहकती ये अल्हड़ सी  गुड़िया ,
                  थिरकती है आँगन में मुश्क ए हिना सी ,
                  मिरी मुज़्महिल ज़िन्दगी के बदन से ,
                  गुज़रती हुई नर्म दस्त ए सबा सी ,
ये  मासूम ख़्वाबों में डूबी निगाहें ,
न जाने सितारों में क्या  ढूंढ़ती  हैं,
हज़ारों सवालात लेकर अजब से ,
ये मुझसे हवा का पता पूछती हैं ,
                   मैं हैरान होता हूँ अक्सर उलझकर ,
                   तमन्ना की पगडंडियों के भंवर में ,
                   हसीं ख़्वाहिशों की नई  बारिशों में ,
                   चमकते थिरकते हुए इस नगर में ,
मगर सोचता हूँ कि कब तक चलेगा ,
कंवारी तमन्नाओं का सिलसिला ये ,
किसी दिन कहीं पर अचानक रुकेगा ,
हसीं क़हक़हों का रवां क़ाफ़िला ये ,
                    कभी ये कली  गुल में तब्दील होगी ,
                    क़बा ओढ़ लेगी ये संजीदगी की ,
                    बदन के तग़य्युर से मजबूर होकर ,
                    पहन लेगी ज़ंजीर पाकीज़गी की ,
किसी दिन इसे भी ये मालूम होगा ,
कि करनी है इसको भी तख़लीक़ कोई ,
गुज़रना  है उन दर्द के जंगलों से ,
नहीं जिनसे बढ़के  है तारीक कोई ,
                      गिरेगी मुसलसल सवालों की बिजली ,
                      बदन में निगाहों के कांटे चुभेंगे ,
                      बिखर जायेंगे ये हसीं ख़्वाब सारे ,
                      ये गुड़ियों के मेले तमाशे उठेंगे ,
मगर फिर पुकारेगा इक शाहज़ादा ,
नज़र कुछ नए ख़्वाब बुनने लगेगी ,
किसी दिन चमन से बिछड़ना पड़ेगा ,
किसी दिन उमीदों की डोली उठेगी ,
                      सजाऊंगा मैं अपने हाथों से इसको ,
                      किसी मोतबर हाथ में सौंप दूंगा ,
                      इन आँखों से अश्कों की बरसात होगी ,
                      मैं तनहा कहीं पर सिसकता रहूंगा ,
मगर फ़ायदा क्या है रंज ओ फ़ुग़ाँ से ,
हर इक फूल की सिर्फ़ क़िस्मत यही है ,
सफ़र ख़ुशबुओं का बढ़ाना है आगे ,
कि इस ज़िन्दगी की रवायत यही है ,
                      कभी मैंने भी एक सपना बुना था ,
                      कभी चुनके तिनके सजाया था गुलशन,
                      कभी इक कली को किसी के चमन से ,
                      जुदा कर बसाया था अपना नशेमन ,
किसी बाग़बाँ का है इक क़र्ज़ मुझ पर ,
सो मुझको किसी दिन चुकाना पड़ेगा ,
मिरी ज़िन्दगी मेरे सीने की धड़कन ,
तुझे मेरे गुलशन से जाना पड़ेगा ,,,,,
पापा। … खुश रहो हमेशा