Follow by Email

Thursday, 29 January 2015

   ग़ज़ल

    कोई   तलाश  अधूरी   सी   रह   गयी  मुझमें।
      खटक  रही   है   किसी  बात की  कमी मुझमें।

     बहुत   वसीअ   है   मेरे    ग़मों   की    पहनाई ,
      पनाह  मांगने   लगती   है   हर   ख़ुशी  मुझमें। 

     कहाँ   है  सह्ल   किसी   लफ़्ज़  का  रवां  होना ,
      ठहर   गयी   है   बड़ी   सख़्त  ख़ामुशी मुझ में। 

       सफ़र  की   रस्म  निभाने   को   चल रहा हूँ  मैं ,
        वगरना  ताब ए  सफ़र  अब  कहाँ  बची  मुझमें।

         ख़याल ओ ख़्वाब  पे  काई सी जम गयी आख़िर,
          अज़ल   से   ठहरी   हुई    है   कोई  नदी   मुझमें। 

         अजीब    रंग    रहा    दिल   के   कारख़ाने    का ,
         न   रौशनी   ही   सलामत   न    तीरगी    मुझमें ।

          वो   आस्मां   हूँ   कि   मातम  नसीब  है  जिसका ,
          सितारे   रोज़    ही    करते   हैं  ख़ुदकुशी   मुझमें।

          वो    एक   बार   मिरे   साहिलों    पे    उतरा   था ,
          फिर   उसके  बाद  फ़क़त  रेत   रह   गई   मुझमें।

            मनीष शुक्ला 

                           वसीअ -विस्तृत  ,पहनाई - विस्तार ,सह्ल - आसान ,अज़ल- आदि काल , 


                            
                           

                    



                                                                            ग़ज़ल



                                    माज़ी  में खुलने  वाले  हर बाब से  लिपटी  रहती  हैं।
                                    जाने  वालों  की  यादें  असबाब  से  लिपटी  रहती हैं।

                                    अहल  ए सफ़र  तो  गुम हो जाते हैं  जाकर  गहराई में ,
                                    कश्ती  की  टूटी    बाहें  गिर्दाब  से  लिपटी  रहती  हैं।

                                    कभी कभी कुछ ऐसे दिलकश मंज़र दिखते हैं शब भर,
                                    नींद भी खुल जाये तो आँखें ख़्वाब से लिपटी रहती हैं।
 
                                    तर्क ए तअल्लुक़  ख़त्म नहीं कर पाता है एहसासों को,
                                    रिश्तों  की  टूटी  कड़ियाँ  अहबाब  से  लिपटी रहती हैं।

                                    तूफानों  का  ज़ोर   बहा  ले  जाता   है   बुनियादों  को ,
                                    रेज़ा  रेज़ा    तामीरें    सैलाब   से   लिपटी   रहती   हैं।

                                    उजड़े  घर  की  वीरानी  का  सोग मनाने  की  खातिर,
                                    ख़स्ता  छत  की  शहतीरें  महराब  से लिपटी रहती हैं।

                                    उसको  दिन  भर तकते तकते  डूब तो जाता है  लेकिन,
                                    सूरज  की  बुझती  नज़रें  महताब  से  लिपटी रहती हैं।

                                    मनीष शुक्ला
                                   
                                 माज़ी-भूतकाल ,बाब-दरवाज़ा ,  असबाब-सामान ,  गिर्दाब-भंवर ,
                                 तर्क ए तअल्लुक़ -रिश्ते का टूटना ,अहबाब- दोस्त
                                   

Wednesday, 28 January 2015



                                                                             ग़ज़ल
                                              दिन  का लावा पीते पीते आख़िर जलने  लगता  है।  
   होते   होते  शाम   समंदर  रोज़  उबलने  लगता  है। 

  ज़ब्त  धुवां होने  लगता है  अंगारों की  बारिश   में ,
     फूल सा लहजा भी उकताकर आग उगलने लगता है। 

   ताबीरों   के  चेहरे देख  के वहशत  होने  लगती   है ,
       नींद में कोई  डरकर  अपने ख़्वाब  कुचलने लगता है। 

इक चेहरा आड़े आ जाता है मरने की ख्वाहिश के ,
  उसको देख के जीने का अरमान मचलने लगता है। 

     मुश्किल ये है वक़्त की क़ीमत तब पहचानी जाती है ,
   जब हाथों से लम्हा लम्हा वक़्त फिसलने लगता है। 

   ये   भी  होता  है  ग़म के  मफ़हूम  बदलते  जाते  हैं ,
    यूँ  भी  होता  है  अश्कों  का  रंग  बदलने लगता  है। 

   अफ़सुर्दा करता है अक्सर शबनम जैसा एक ख़याल ,
   गाहे  गाहे  आकर  रुख  पे ख़ाक सी मलने लगता है। 

   नम  झोंके नमकीन हवा के जिस्म में घुलते जाते हैं ,
  पत्थर  कैसा भी  हो  आख़िरकार पिघलने लगता है। 

  बूँद  को  दरिया  में  खो  देना इतना भी आसान नहीं ,
   मदहोशी  तक  आते  आते  होश  संभलने  लगता है। 

मनीष शुक्ला