Follow by Email

Friday, 11 August 2017




بات    کرنے   میں   اگر  شرماینگے  
آپ   پھر  آگے  کہاں    بڑھ   پاینگے  

ہم   وہاں   سجدہ   کہاں  کر  پاینگے  
جاینگے دیکھیںگے  اور مر جاینگے 

کم سے کم تم   دھیان   تو دینے لگے 
ہم   ابھی    تسلیم   بھی    کرواینگے 

آپ   پر     جادو    ذرا   چلنے  لگے 
پھر زمانے پر  بھی ہم   چھا جاینگے 

اک   عمل   دانشورانہ   بھی  ہے  پر 
ہم نے  سوچا ہے  کہ دھوکا   کہیںگے 

آنکھ   موندے  ہی  گزر  جاینگے ہم 
سارے  منظر  دیکھتے   رہ  جاینگے 

چوری چوری دیکھ لینگے پھر تمھیں 
اور    سارے     راستے   شرماینگے  

منیش شکلا 

Thursday, 20 July 2017



کبھی ضد   پر   اتر  آتے   کبھی   حد   سے    گزر  جاتے 
اگر   یکجائی   مشکل  تھی   تو    بہتر   تھا  بکھر  جاتے 

کبھی    تم   نے  ته    دل    سے   مداوا   ہی   نہیں  چاہا 
وگرنہ زخم ایسے تھے   کہ  چھونے سے  ہی بھر  جاتے 

محبّت    کا    بھرم    رکھے     رہیں    محرومیاں   ورنہ 
میسّر  ہو  گئے  ہوتے  تو    ہم    دل   سے    اتر   جاتے 

کوئی   رہتا    نہیں    اب   اس   گلی   میں   جاننے  والا 
مگر  ڈرتا  ہے  اب بھی دل نہ   جانے  کیوں  ادھر  جاتے 

کسی   صورت    نکلتی    تو    ترے  دیدار   کی  صورت 
تو ہم تجھ سے نہ ملنے  کی   قسم  سے  بھی مکر جاتے 

یہی    اک     آستانہ     ہے    زمانے   میں   خرابوں  کا 
ترے   در   تک  نھیں   آتے   تو   دیوانے   کدھر  جاتے 

بگڈ      کر   ٹھیک    ہونے   نے   ہمیں   برباد   کر  ڈالا 
بگڑتے  ہی  گۓ  ہوتے   تو    ممکن   تھا  سنور   جاتے 
منیش شکلا  

Wednesday, 19 July 2017



कभी  ज़िद  पर  उतर  आते  कभी  हद  से  गुज़र जाते। 
अगर  यकजाई  मुश्किल थी  तो बेहतर था बिखर जाते। 

कभी  तुम  ने  तह  ए   दिल  से   मुदावा  ही  नहीं  चाहा ,
वगरना   ज़ख़्म   ऐसे    थे   कि  छूने   से   ही  भर   जाते 

मुहब्बत   का   भरम   रक्खे    रहीं   महरूमियाँ   वरना ,
मयस्सर  हो   गए   होते   तो  हम  दिल  से  उतर   जाते। 

कोई  रहता   नहीं   अब   उस   गली   में  जानने   वाला ,
मगर  डरता  है  अब  भी  दिल  न जाने क्यूँ  उधर  जाते।

किसी   सूरत  निकलती   तो    तिरे   दीदार   की   सूरत ,
तो हम  तुझसे न मिलने  की  क़सम  से  भी मुकर जाते। 

यही    इक    आस्ताना    है    ज़माने    में    ख़राबों   का ,
तिरे   दर   तक  नहीं  आते   तो   दीवाने    किधर   जाते। 

बिगड़   कर   ठीक    होने    ने   हमें  बरबाद  कर  डाला,
बिगड़ते   ही   गए  होते   तो   मुमकिन   था  संवर  जाते। 
मनीष शुक्ला   






Tuesday, 18 July 2017



بکھرنے    کا  ارادہ   کر   رہے   ہیں 
ابھی  خود  کو   کشادہ   کر رہے  ہیں 

ابھی     دیوانگی    کی      ابتدا    ہے 
جنوں   حد  سے   زیادہ  کر رہے  ہیں 

سبھی    کچھ   ہو رہا  ہے  بے  ارادہ 
سبھی   کچھ  بے ارادہ  کر  رہے  ہیں 

چھپانا     چاہتے     ہیں   کچھ    یقیناً 
وہ  کچھ  باتیں   زیادہ  کر   رہے   ہیں 

کسی  دن  راے   بھی   ظاہر  کرینگے 
ابھی   تو    استفادہ    کر   رہے   ہیں 

اسی   چوکھٹ  سے اکتا کر اٹھے تھے 
اسی  چوکھٹ  پہ  سجدہ کر  رہے  ہیں 

ہمیں   کہنی   ہے   رنگوں   کی  کہانی 
سو  ہم  لہجے   کو  سادہ کر  رہے ہیں 
منیش شکلا 


 बिखरने  का   इरादा  कर   रहे  हैं। 
 अभी  ख़ुद  को  कुशादा कर रहे हैं। 

अभी   दीवानगी    की   इब्तेदा   है ,
 जुनूं  हद   से  ज़ियादा  कर  रहे   हैं। 

 सभी   कुछ    हो  रहा   है   बेइरादा ,
 सभी  कुछ   बेइरादा   कर   रहे  हैं। 

 छुपाना  चाहते   हैं   कुछ   यक़ीनन ,
  वो  कुछ  बातें  ज़ियादा  कर  रहे  हैं। 

  किसी  दिन  राय  भी  ज़ाहिर  करेंगे ,
   अभी   तो   इस्तेफ़ादा   कर   रहे   हैं। 

  इसी  चौखट  से उकता  कर उठे  थे ,
  इसी  चौखट  पे  सजदा  कर  रहे  हैं। 

  हमें   कहनी   है    रंगों   की  कहानी ,
   सो हम  लहजे  को  सादा  कर रहे हैं। 
मनीष शुक्ला 

Friday, 14 July 2017



روشنی  اور  رنگ کے  رقصاں سرابوں کی طرف 
آؤ   تم  کو  لے چلیں  ہم اپنے  خوابوں کی  طرف 

کیسی  کیسی  محفلیں   برپا  کے  بیٹھے  ہیں  ہم 
دیکھ  لو  آکر  کبھی   اپنے   خرابوں  کی   طرف 

بھول  بیٹھے  تھے  زمیں کے آدمی کی سرحدیں 
ہم  بھی  مایل  ہو گئے  تھے  ماہتابوں  کی طرف 

اک  مسلسل  بیکلی  خدشہ  عجب  سی  شورشیں 
غور  سے  دیکھو کبھی روشن شھابوں کی طرف 

زندگی   پہلے  سوالوں   پر  ہمارے   ہنس   پڑی 
پھر  اشارہ  کر  دیا   سوکھے  گلابوں  کی  طرف 

ہم  کتابوں  سے  نکل    کر  زندگی   پڑھنے  گئے 
تھک  کے  لیکن  لوٹ  اے  پھر کتابوں کی طرف 

ہم   کبھی  ٹے   ہی   نہیں  کر   پاے   اپنی  قیفیت 
کب  گناہوں  کی  طرف  ہے کب سوابوں کی طرف 
منیش شکلا 


रौशनी  और    रंग   के   रक़्सां    सराबों  की  तरफ़। 
आओ  तुमको  ले  चलें  हम  अपने ख़्वाबों की तरफ़। 

कैसी   कैसी    महफ़िलें   बरपा   किये   बैठे  हैं  हम ,
देख  लो   आकर   कभी  अपने  ख़राबों  की  तरफ़। 

भूल   बैठे     थे    ज़मीं    के    आदमी   की    सरहदें ,
हम   भी  माईल  हो    गए  थे  माहताबों की   तरफ़। 

इक  मुसलसल  बेकली , ख़दशा , अजब सी शोरिशें ,
 ग़ौर  से    देखो   कभी   रौशन   शिहाबों   की  तरफ़। 

ज़िन्दगी    पहले     सवालों    पर    हमारे   हंस   पड़ी ,
फिर   इशारा   कर   दिया  सूखे  गुलाबों  की   तरफ़। 

हम   किताबों   से   निकलकर   ज़िन्दगी  पढ़ने   गए ,
 थक  के लेकिन लौट  आये  फिर  किताबों की  तरफ़। 

 हम  कभी   तै   ही  नहीं  कर   पाए   अपनी  क़ैफ़ियत ,
 कब  गुनाहों  की  तरफ़   है  कब   सवाबों  की  तरफ़। 
मनीष शुक्ला 

Wednesday, 12 July 2017



کوئی  سمجھے تو کیا  سمجھے مرے غم کے معنی بھی 
مرے ہونٹھوں  پہ نغمہ بھی مری آنکھوں میں پانی  بھی 

ترے  چہرے  سے  ملتی  ہے مرے  اشعار  کی  رنگت 
گلابی   ہے   ذرا   سی    اور   تھوڑی    آسمانی   بھی 

ادھر  دہشت  سی  ہوتی ہے شب غم کے  فسانوں  سے 
ادھر   اچھی   نہیں   لگتی    محبّت   کی   کہانی   بھی 

بہت  کچھ  کہ   دیا  اس   نے   اثر  انداز  لفظوں  میں 
بہت  کچھ  که  گئی  لیکن  کسی  کی  بے   زبانی  بھی 

مرا   سب   حال  اس  سے  ہو  بہو  جاکر   بیاں  کرنا 
یہ  جو   تحریر  ہے  خط   میں  یہی  کہنا   زبانی  بھی 

کبھی  میں   پار  کر   جاؤنگا   سرحد  بے   یقینی  کی 
کسی   دن   دور  ہو  جاۓگی  تیری   بد   گمانی   بھی 

بڑی    قیمت   چکانی   پڈ  گئی     شاید   مسرّت   کی 
بہت   غمگین    لگتی    ہے   تمہاری   شادمانی    بھی 
منیش شکلا 


Tuesday, 11 July 2017



ہم    سفر    تو    مرا    خیال   نہ   کر 
اپنے    رستے   پہ   جا   ملال  نہ   کر 
  
اب     مرض    راس    آ گیا    مجھکو 
اب   طبیعت    مری     بحال   نہ     کر 

داستاں    سن   تو   لے    ذرا   پوری 
بیچ  میں   روک   کے    سوال   نہ  کر 

آگ    جیسی     ہے  عشق  کی  سیرت 
خاک   ہو    جاےگا     وصال   نہ   کر 

اک    بھرم    ہی   بناۓ  رکھ کچھ دن 
آنا    جانا    مرا      محال     نہ     کر 

اپنے  خوابوں  کو  دور رکھ مجھ سے 
میری  خلوت   میں    اختلال    نہ   کر 

عشق    کے   خواب   پاک  ہوتے  ہیں 
عشق    کے   خواب   پایمال    نہ   کر 
منیش شکلا 
 हमसफ़र   तू  मिरा  ख़याल  न  कर।
 अपने   रस्ते   पे  जा  मलाल  न  कर।

  अब   मरज़   रास  आ  गया  मुझको ,
 अब   तबीयत   मिरी  बहाल  न  कर।

  दास्ताँ    सुन    तो    ले    ज़रा   पूरी ,
  बीच   में    रोक  के   सवाल  न   कर।

  आग    जैसी   है    इश्क़  की   सीरत ,
  ख़ाक   हो   जाएगा  विसाल  न   कर।

    इक  भरम   ही  बनाए  रख कुछ दिन ,
  आना   जाना   मिरा  मुहाल   न   कर।

    अपने  ख़्वाबों   को   दूर   रख   मुझसे ,
    मेरी  ख़ल्वत   में    इख़्तिलाल  न  कर। 

     इश्क़    के    ख़्वाब    पाक   होते    हैं ,
     इश्क़    के   ख़्वाब  पायमाल   न   कर।
मनीष शुक्ला 



Saturday, 1 July 2017



      कोई   समझे  तो  क्या  समझे   मिरे  ग़म  के  मआनी  भी। 
      मिरे    होंठों   पे   नग़मा   भी   मिरी  आँखों  में   पानी  भी। 

      तिरे    चेहरे   से   मिलती   है   मिरे    अशआर  की    रंगत ,
      गुलाबी    है    ज़रा    सी    और    थोड़ी    आसमानी    भी। 

      इधर   दहशत   सी   होती  है  शब्  ए  ग़म  के  फ़सानों  से ,
      उधर   अच्छी    नहीं   लगती   मुहब्बत   की   कहानी  भी। 

     बहुत   कुछ   कह  दिया   उसने  असर  अंदाज़  लफ़्ज़ों  में ,
     बहुत   कुछ   कह  गई  लेकिन   किसी की  बेज़ुबानी   भी। 

     मिरा  सब   हाल  उस  से   हू   ब  हू   जाकर  बयां   करना ,
       ये   जो   तहरीर   है   ख़त    में   यही   कहना   ज़ुबानी   भी। 

       कभी     मैं     पार   कर    जाऊंगा   सरहद   बेयक़ीनी   की ,
       किसी     दिन    दूर     हो    जाएगी   तेरी    बदगुमानी   भी। 

       बड़ी    क़ीमत     चुकानी    पड़    गई    शायद   मसर्रत  की ,
        बहुत     ग़मगीन     सी   क्यूँ   है    तुम्हारी    शादमानी    भी। 
मनीष शुक्ला 








کسی  کردار  کے تیور کبھی  شل  ہو  نہیں  سکتے 
ہماری  داستاں  کے  باب   بوجھل  ہو  نہیں سکتے 

اندھیرا  بھی ضرورت  ہے اجالا بھی  ضرورت  ہے 
ہماری  زندگی   کے   مسلے   حل  ہو  نہیں  سکتے 

ادھورا    دائرہ   ہو    تم     ادھورا   دائرہ   ہیں  ہم 
بنا   یکجا  ہوئے   دونوں   مکمّل  ہو  نہیں   سکتے 

تمہاری  انگلیوں  میں  کچھ  نہ  کچھ جادو یقیناً  ہے 
وگرنہ  زخم  چھو  لینے سے صندل ہو نہیں  سکتے 

 ادھر  اب   ہوش میں رہنا کسی  صورت  نہیں  ممکن 
 ادھر  مجبوریاں   ایسی   کہ   پاگل  ہو   نہیں  سکتے 

منیش شکلا 



  किसी  किरदार  के  तेवर कभी शल  हो नहीं  सकते। 
  हमारी    दास्ताँ  के   बाब   बोझल   हो  नहीं   सकते। 

  अंधेरा   भी   ज़रुरत   है  ,   उजाला   भी   ज़रुरत   है ,
   हमारी  ज़िन्दगी   के  मसअले  हल   हो  नहीं  सकते। 

  अधूरा    दायरा    हो   तुम   ,  अधूरा   दायरा  हैं   हम ,
    बिना  यकजा   हुए  दोनों  मुकम्मल  हो  नहीं  सकते।  

   तुम्हारी  उँगलियों  में  कुछ  न कुछ  जादू यक़ीनन है ,
    वगरना  ज़ख़्म  छू  लेने   से  संदल  हो   नहीं   सकते। 

      उधर  अब  होश में रहना किसी  सूरत  नहीं  मुमकिन ,
     इधर  मजबूरियां  ऐसी   कि  पागल  हो  नहीं   सकते। 
मनीष शुक्ला 




Thursday, 29 June 2017



سو   کردار   نبھانے  پڑتے   ہیں    ہم   کو 
کیا   کیا   بھیس  بنانے  پڑتے  ہیں  ہم   کو 

آخر  تک   ہم   بے   چہرہ   ہو   جاتے  ہیں 
اتنے   روپ   سجانے   پڑتے  ہیں   ہم   کو 

خد  و  خال   سے  سب  ظاہر ہو  جاتا   ہے 
خد  و  خال    چھپانے   پڑتے  ہیں   ہم   کو 

رفتہ   رفتہ  ہر  شے   سے کٹ  جاتے  ہیں 
اتنے   ربط   نبھانے   پڑتے   ہیں   ہم    کو 

خار    ہمارا     رنگ     اڑاتے   رہتے   ہیں 
گل   سے رنگ  چرانے   پڑتے  ہیں  ہم   کو 

ہم    خود  پر  ہر  بار   بھروسہ  کرتے  ہیں 
دکھ   ہر  بار   اٹھانے   پڑتے   ہیں  ہم    کو 

اپنے     زخم     گنانا    کتنا     مشکل    ہے 
اپنے    زخم   گنانے   پڑتے   ہیں    ہم   کو 

صحرا    کی   ویرانی   سے  دہشت   کھا  کر 
کتنے   شہر    بسانے   پڑتے   ہیں   ہم   کو 

ساری    رات   سلگتے    رہتے   ہیں  تارے 
ساری   رات  بجھانے   پڑتے   ہیں   ہم   کو 
منیش شکلا 

 सौ     किरदार    निभाने    पड़ते   हैं    हमको। 
 क्या    क्या    भेस   बनाने   पड़ते   हैं   हमको। 

  आख़िर     तक    हम     बेचेहरा   हो   जाते   हैं ,
  इतने      रूप     सजाने     पड़ते    हैं     हमको। 

 ख़द   ओ   ख़ाल    से  सब  ज़ाहिर  हो जाता है ,
 ख़द     ओ   ख़ाल   छुपाने   पड़ते   हैं   हमको। 

  रफ़्ता    रफ़्ता     हर     शै   से   कट   जाते   हैं ,
  इतने     रब्त     निभाने     पड़ते    हैं    हमको। 

    ख़ार      हमारा        रंग      उड़ाते       रहते    हैं ,
    गुल     से      रंग    चुराने    पड़ते     हैं   हमको। 

    हम   ख़ुद    पर    हर   बार   भरोसा   करते    हैं ,
     दुःख     हर    बार    उठाने    पड़ते     हैं   हमको। 

    अपने    ज़ख़्म   गिनाना    कितना  मुश्किल  है ,
     अपने     ज़ख़्म    गिनाने    पड़ते      हैं    हमको। 

     सहरा     की     वीरानी     से      दहशत    खाकर ,
     कितने     शह्र     बसाने     पड़ते     हैं      हमको। 
     सारी       रात      सुलगते       रहते       हैं    तारे ,
     सारी      रात     बुझाने      पड़ते      हैं     हमको। 
\मनीष शुक्ला 




Saturday, 24 June 2017



تجھ  سے  ملنے  کا  ارادہ تو نہیں  کرتے ہیں 
پھر  بھی  ملنے  پہ  کنارہ  تو نہیں  کرتے ہیں 

خود  کو  ہر بات  بتاتے  بھی   نہیں ہیں  لیکن 
خود  سے  ہر بات  چھپایا  تو  نہیں کرتے ہیں 

تجھ  سے ملنے تری محفل میں چلے آتے ہیں 
تجھ  سے  الفت کا تقاضا تو  نہیں  کرتے  ہیں 

بس  ترا  نام  لیا  کرتے  ہیں  دل  ہی  دل  میں 
تجھ  کو  ہر  وقت  پکارا  تو  نہیں   کرتے  ہیں 

ہو کے  مجبور  کیا  کرتے   ہیں   تسلیم   ہمیں 
ہم  کو  سب  لوگ  گوارا  تو  نہیں  کرتے  ہیں 

سچ    بتا    یار    کہ    ہم   تیرا   سہارا   بنکر 
تیری  لغزش   میں  اضافہ  تو  نہیں  کرتے ہیں 

کچھ  تو  کہتے  ہیں  چمک  کر  یہ ستارے  آخر 
ہم  سے    ملنے   کا اشارہ  تو  نہیں کرتے  ہیں 
منیش شکلا 


 तुझसे   मिलने   का  इरादा  तो  नहीं  करते   हैं। 
 फिर  भी मिलने पे  किनारा  तो  नहीं  करते   हैं। 

   ख़ुद   को  हर  बात   बताते  भी  नहीं   हैं  लेकिन ,
   ख़ुद   से   हर  बात  छुपाया   तो   नहीं  करते  हैं। 

    तुझसे  मिलने   तिरी  महफ़िल  में  चले  आते  हैं ,
   तुझसे   उल्फत  का  तक़ाज़ा  तो नहीं  करते  हैं। 

     बस  तिरा   नाम  लिया  करते हैं दिल ही दिल में ,
    तुझको    हर   वक़्त   पुकारा  तो  नहीं  करते   हैं।

     होके    मजबूर   किया   करते   हैं   तस्लीम  हमें ,
      हमको   सब   लोग   गवारा   तो   नहीं   करते  हैं। 

       सच    बता   यार   कि   हम  तेरा  सहारा   बनकर ,
      तेरी   लग़ज़िश   में  इज़ाफ़ा   तो   नहीं   करते  हैं। 

         कुछ  तो  कहते   हैं  चमक  कर ये  सितारे आख़िर  ,
        हमसे   मिलने  का   इशारा   तो   नहीं    करते   हैं। 

मनीष शुक्ला 






پہلے   چہرہ    کتاب   بنتا   ہے 
پھر وہ کھل کر نصاب  بنتا  ہے 

جانے کتنے شہاب  بجھتے ہیں 
تب   کوئی   آفتاب    بنتا    ہے 

نور کی پرسشیں  ضروری  ہیں 
نور  سے    ماہتاب    بنتا   ہے 

بس قرینے سے حرف لگ جایئں 
لفظ   سے    انقلاب    بنتا   ہے 

مدّتوں   ہاتھ    میں    نہیں   آتا 
یوں   تو   وہ  دستیاب  بنتا   ہے 

لمحہ   لمحہ   شریک   ہوتا   ہے 
مدّتوں    میں   عذاب    بنتا   ہے 

ہمکو  ہر روز شب سکھاتی ہے 
ہم  سے  ہر دن  خراب  بنتا  ہے 
منیش شکلا 


पहले  चेहरा   किताब   बनता  है। 
फिर वो खुलकर निसाब बनता है। 

  जाने   कितने   शिहाब   बुझते   हैं ,
  तब   कोई   आफ़ताब  बनता    है। 

 नूर      की    पुरसिशें    ज़रूरी   हैं ,
  नूर     से    माहताब     बनता   है। 

  बस   क़रीने   से   हर्फ़  लग   जाएं ,
   लफ़्ज़   से    इन्क़िलाब   बनता है। 

  मुद्दतों     हाथ    में    नहीं   आता ,
   यूँ   तो   वो  दस्तयाब   बनता   है। 

   लम्हा    लम्हा    शरीक   होता   है ,
  मुद्दतों     में   अज़ाब    बनता   है। 

    हमको   हर  रोज़  शब्  सिखाती है ,
    हमसे  हर   दिन  ख़राब  बनता  है। 
मनीष शुक्ला 


 درد   چھونے  سے   مرے  بڑھتا  ہے  کیا 
  خار    سینے   میں     کہیں   گڑتا  ہے  کیا 

  کیا     کوئی     مطلب     نہیں    تدبیر    کا 
 زندگی     سے    ہارنا     پڑتا     ہے   کیا 

  تم    نے    تو    بالکل    کنارہ     کر    لیا 
   خود  سے  بھی ایسے کوئی  لڑتا ہے   کیا 

   تم    کبھی   خود  کو  چھڈک   کر    دیکھنا 
    رنگ  مجھ  پر  بھی  کوئی  چڑھتا  ہے  کیا 

    ہے   ابھی    تجھکو    پرستش    پر    یقیں 
    تو   ابھی   تک     مورتیں   گڈھتا  ہے  کیا 

     کیا    یہاں     کوئی     نہیں      حامی     ترا 
     ہر    کوئی    الزام    ہی    مڈھتا   ہے    کیا 

      وقت    کے    صفحے    پلٹتا     جاۓ    ہے 
     رات    دن   مجھکو  کوئی   پڑھتا  ہے  کیا 
منیش شکلا 


  दर्द   छूने  से   मिरे   बढ़ता  है   क्या? 
 ख़ार  सीने  में  कहीं  गड़ता  है  क्या ?

 क्या  कोई  मतलब  नहीं  तदबीर का?
  ज़िन्दगी  से   हारना   पड़ता  है  क्या ?

   तुमने तो बिलकुल किनारा कर  लिया ,
   ख़ुद  से  भी  ऐसे  कोई  लड़ता है क्या ?

     तुम कभी  ख़ुद  को  छिड़क कर देखना ,
    रंग  मुझ  पर  भी कोई  चढ़ता है क्या ?

      है  अभी   तुझको  परस्तिश  पर  यक़ीं ,
      तू   अभी   तक  मूरतें  गढ़ता  है  क्या ?

     क्या   यहाँ    कोई   नहीं   हामी   तिरा ,
       हर  कोई   इलज़ाम  ही  मढ़ता  है क्या ?

      वक़्त  के   सफ़हे   पलटता    जाये   है ,
       रात  दिन  मुझको  कोई पढ़ता है क्या ?
मनीष शुक्ला 

Tuesday, 20 June 2017


तुझ   तक  आने  जाने  में  ही टूट गए।
दीवाने    वीराने      में    ही   टूट   गए।

वो    औरों   को  कांधा   देने  वाले   थे ,
अपना   बोझ    उठाने  में  ही  टूट गए।

हम  जो अच्छे फ़नकारों में शामिल थे ,
इक   किरदार  निभाने  में  ही टूट गए।

दुनिया तक फिर जाम भला कैसे लाते ,
मयकश  तो  मैख़ाने  में  ही   टूट   गए।

होंठों तक तो सिर्फ़ तमाज़त ही पहुंची ,
नश्शे   तो   पैमाने   में   ही   टूट   गए।

क्या उनका फिर  हाल तबाही में होता ,
वो  तो   ख़ैर  मनाने  में  ही  टूट   गए।

हमको अपने  साथ  गुज़ारा करना था ,
हम  ख़ुद  को समझाने  में ही टूट गए।
ऊपर   तो  बस  चांदी  सोना ही आया ,
मोती   तो   तहख़ाने  में  ही   टूट  गए।
तुमको  सारी  रात  कहानी कहनी थी ,
तुम  तो   इक अफ़साने में ही टूट गए। 

मनीष शुक्ला 





जब  आसमान  का समझे नहीं इशारा तुम। 
तो फिर ज़मीं को कहाँ रह सके गवारा तुम। 

तुम्हारे    दैर   का  सबसे   हक़ीर   ज़र्रा  हम ,
हमारे  चर्ख़  का  सबसे  हसीं  सितारा   तुम। 

अब  इसके  बाद  हमें  दीद  की नहीं  हाजत ,
नज़र  के  वास्ते  हो  आख़िरी  नज़ारा   तुम। 

बढ़ा  के  क़ुर्बतें  बीमार  कर   दिया   हमको ,
अब  आके  हाल  भी पूछो कभी हमारा तुम। 

तुम्हारी  आग   में  जलते  हुए  सरापा  हम ,
हमारी   राख  से  उठता  हुआ  शरारा  तुम। 

तुम्हारी  बात  पे  हमको  हसीं  सी  आती है ,
हमारा   हाल  न   पूछा  करो  ख़ुदारा   तुम। 

हमारे    साथ  से   तुम  मुत्मईं   नहीं   लगते ,
हमारे  साथ  में  करते  तो  हो  गुज़ारा  तुम। 

मनीष शुक्ला 


किसी को ग़म ने किसी को ख़ुशी ने तोड़ दिया। 
हमें  तो   जिसने  बनाया  उसी  ने   तोड़  दिया। 

हम   भी  बेबाक  तकल्लुम  पे  यक़ीं   रखते  थे ,
हमें   भी  शहर  की   तानाज़नी  ने  तोड़  दिया। 

तिरा   भी  ज़ब्त  मिरे आंसुओं  में  बह  निकला ,
मिरा   भी   सब्र   तिरी   बेबसी   ने   तोड़  दिया। 

जगह    जगह   पे   द रारें   पड़ीं   तकब्बुर   पर ,
मिरी  अना   का क़िला  आशिक़ी ने तोड़  दिया। 

इसी  के  ज़ोम पे  हस्ती  को  दिल्लगी  समझा ,
मिरा   ग़ुरूर   इसी   ज़िन्दगी  ने   तोड़   दिया। 

अबस   शराब   पे  इलज़ाम  रख   रहे  हैं  लोग ,
मिरा   नशा   तो  तिरी  बेरुख़ी  ने  तोड़  दिया। 

मिरे मलाल को अब रो के और सिवा  मत कर ,
मिरा   भरम  तो  तिरी इक हंसी ने तोड़ दिया।
हुदूद  ए  ज़ीस्त  से  बाहर  निकल  गए प्यासे ,
तलब   का  दाएरा  तिशनालबी  ने तोड़ दिया। 

अब अपना ध्यान किसी चीज़ में नहीं लगता ,
हमारा  ध्यान तो कबका किसी ने तोड़ दिया। 
मनीष शुक्ला  


एक तो इश्क़ ख़ुद मुसीबत है।
उसपे हमको वफ़ा की आदत है।

अब भी ख्वाबों में उसका आ जाना ,
जाने किस बात की अलामत है।

आपके तेवरों से है ज़ाहिर ,
आपकी आपसे अदावत है।

आह भरते हैं चीख़ लेते हैं,
आजकल दर्द की इनायत है।




वक़्त    पैग़ाम    का    नहीं   शायद। 
अब   मरज़   नाम  का  नहीं  शायद। 

इसका चाहा  न कुछ हुआ अब तक ,
दिल   किसी  काम  का नहीं शायद। 

अब    सहीफ़े    ज़मीं   से   उगते  हैं ,
 दौर    इल्हाम    का   नहीं    शायद। 

  उतरा   उतरा ,   सियाह  , अफ़सुर्दा  ,
 रंग    ये   शाम   का    नहीं    शायद। 

 ख़ामुशी      की     तनाब    टूटी    है ,
शोर   कुहराम    का   नहीं   शायद। 

इश्क़     करना    तबाह   हो   जाना ,
काम     ईनाम    का   नहीं   शायद। 

मनीष शुक्ला 


    आख़िरी  बयानों  में   और न  पेशख़्वानी  में। 
    हम   कहीं  नहीं   आते  आपकी कहानी   में। 

   हम  तमाम   रस्ते   पर  बारहा  मिले  लेकिन 
     देख    ही    नहीं   पाए   आप   बदगुमानी  में। 

      इख़्तिलाफ़   किरनों   का  ऊपरी दिखावा था ,
    एक   हो    गए   सारे   रंग   गहरे   पानी   में। 

     इनसे   तुम  अकेले   में गुफ़्तगू  किया करना ,
     लफ़्ज़   देके  जाएंगे   हम   तुम्हें  निशानी  में। 

    आज    वो   परीचेहरा  बात   कर गया हमसे,
      नाम  तक  नहीं  पूछा  हमने   शादमानी   में। 

      एक   बार  रूठे   तो   लौट   कर  नहीं  आये ,
       चूक   हो   गयी   हमसे   अपनी  मेज़बानी  में। 

        तुम  ज़रा  से   ज़ख़्मों  से तिलमिलाए बैठे  हो ,
        सर  कटाए   बैठे    हैं   लोग   हक़बयानी   में। 

मनीष शुक्ला 


जब  आफ़ताब   मिरी   धज्जियाँ    उड़ा  देगा। 
तब   आके   चाँद   मुझे   चांदनी    उढ़ा  देगा। 

मैं  फिर  ज़मीं की नसीहत को  भूल  जाऊँगा ,
हवा  के  दोश  पे मुझको  वो फिर  चढ़ा  देगा। 

मैं   रो    के   और   उसे   मुतमईन   कर  दूंगा ,
वो   हंसके    और   मिरे  दर्द   को   बढ़ा  देगा। 

 ये   जो  वजूद  के  धब्बे  हैं  इनका  क्या  होगा ?
रिदा    के   दाग़  तो   माना  कोई  छुड़ा   देगा।

 अजीब   ढंग  से  करता  है  रू  ब  रू  मुझको ,
 ये   आईना   तो  मुझे   ख़ुद  से  ही  लड़ा  देगा।

 फिर   उसके  बाद   उसी  की ज़ुबाँ में  बोलोगे ,
 वो   चंद    रोज़  में    सारे   सबक़   पढ़ा   देगा। 

ज़ुबाँ  को   बींध   के   रख  देगा   एक  लम्हे में ,
नज़र  का  तीर  वो   चेहरे  पे  जब  गड़ा  देगा। 
मनीष शुक्ला 


Monday, 19 June 2017



 ज़िन्दगी   से    प्यार  कर  बैठे  थे  हम। 
हाँ   कभी   इक़रार  कर  बैठे  थे  हम। 

 फिर  सफ़र  की  शोख़ियां  जाती  रहीं ,
रास्ता   हमवार    कर    बैठे   थे   हम। 

बेझिझक    इक़रार   करना   था  जहाँ ,
बेसबब   इन्कार   कर   बैठे    थे   हम। 

जिस्म   की    ही   पुरसिशें  करते   रहे ,
रूह    को   बेकार   कर  बैठे   थे  हम। 

बरकतें    जाती       रहीं    ताबीर   की ,
ख़्वाब   को   बाज़ार   कर  बैठे थे  हम। 

फिर   हमारा  दिन  बहुत  बरहम  रहा ,
रात  को   बेज़ार   कर    बैठे   थे   हम। 

 हम  को जन्नत  से  निकाला  क्यूँ  गया ?
इश्क़   का   इज़हार  कर  बैठे  थे  हम। 
मनीष शुक्ला 


हमने  अपने  ग़म  को दोहराया नहीं। 
वो   पुराना   राग   फिर   गाया  नहीं। 

जिसको   पाने   की   दुआ  करते  रहे ,
वो    मिला  भी  तो   उसे  पाया  नहीं। 

 ये  तो  है उससे  बिछड़कर  फिर कभी ,
  दिल  किसी  पत्थर  से  टकराया  नहीं। 

इक लम्हा आये  थे  हम  भी  होश  में ,
फिर  कभी  वैसा   नशा   छाया   नहीं। 

चारागर  की  क्या  कहें   हमने   कभी ,
ख़ुद को अपना ज़ख़्म दिखलाया नहीं। 

आज   कितनी   मुद्दतों  के  बाद  फिर ,
दिल   अकेले  में   भी  घबराया   नहीं। 

जिस्म  की  सरहद  से बाहर  आ  गई  ,
अब  मुहब्बत    पर  कोई  साया   नहीं। 

मनीष शुक्ला