Follow by Email

Monday, 21 July 2014





तमाम   दर्द   को   चेहरे  पे   इक़्तेबास    किया।
कि इक हंसी ने हर इक ग़म को बेलिबास किया।

तुम्हारा  हौसला  रखने  को   हंस   दिए   वरना ,
तुम्हारी  बात  ने  हमको   सिवा  उदास   किया।

न  रास्ते  की   ख़बर  ही  रही  न   मंज़िल    की ,
सफ़र  के शौक़  ने किस दरजा बदहवास  किया।

जहां   से   उठ  के    चले   थे    जहाँनवर्दी    को ,
सफ़र  तमाम   उसी  दर  के  आस  पास  किया।

फ़क़त ख़ुशी ही से वाक़िफ़ थी नासमझ अब तक ,
नज़र को कितनी मशक़्क़त से ग़मशनास किया।

वो  जिसको  कह के  कोई  भूल भी  गया कबका ,
तमाम  उम्र  उस इक  बात  का  ही  पास  किया।

हर   एक    शै   की   ज़रुरत   पड़ी   कहानी    में ,
कभी  ख़ुशी   तो  कभी  ग़म  से इल्तेमास किया।
मनीष शुक्ला







Wednesday, 9 July 2014



सहर   से  शाम  रहती   है  यही  मुश्किल  मिरे आगे
कभी   रस्ता  मिरे  आगे   कभी  मंज़िल मिरे  आगे।

कभी  माज़ी की वहशत  है, कभी फ़र्दा की दहशत है ,
मिरा  मक़्तल  मिरे पीछे ,  मिरा क़ातिल मिरे आगे।

न कुछ कहते बना मुझसे, न कुछ करते बना मुझसे ,
मिरा  दुश्मन   मिरे  घर में, हुआ  दाख़िल मिरे आगे।

समंदर  के   बहुत  से  राज़  पिन्हां  हैं  मिरे  दिल में ,
बहुत  सी  कश्तियाँ  डूबीं  सर ए साहिल   मिरे आगे।

मुदावा कर  ,मुदावा  कर ,मुदावा  कर   मुहब्बत का ,
ये  कहके  फूट  कर रोया दिल ए बिस्मिल मिरे आगे।

मिरी  दुखती  हुई  रग  को अचानक छू  दिया तुमने ,
ये  किसका ज़िक्र ले आये सर ए महफ़िल मिरे आगे।

अभी   बस  ख़ाक   है ,  ख़ाशाक  हैं,  सहरानवर्दी   है,
सफ़र   के  बाद  आएगा  मिरा  हासिल   मिरे  आगे।

मनीष शुक्ला 

Tuesday, 8 July 2014



سحر سے شام  رہتی  ہے  یہی  مشکل   مرے  آگے
کبھی  رستہ  مرے  آگے    کبھی   منزل  مرے  آگے

کبھی ماضی کی وحشت ہے کبھی فردا کی دہشت ہے
مرا   مقتل   مرے   پیچھے   مرا   قاتل   مرے  آگے

نہ کچھ کہتے بنا مجھسے نہ کچھ کرتے بنا مجھسے
مرا  د شمن  مرے  گھر   میں  ہوا  داخل  مرے  آگے

سمندر  کے بہت سے  راز  پنہا  ہیں  مرے  دل  میں
بہت  سی  کشتیاں   ڈوبیں    سر   ساحل  مرے  آگے

 مداوا    کر    مداوا     کر   مداوا     کر    محبّت   کا
یہ  کہکے   پھوٹ کر   رویا  دل  بسمل   مرے   آگے

مری دکھتی ہوئ  رگ  کو  اچانک   چھو   دیا  تمنے
یہ   کسکا  ذکر   لے   آے   سر   محفل   مرے  آگے

ابھی بس خاک ہے  خاشاک  ہیں  صحرا نوردی  ہے
سفر    کے   بعد   آےگا   مرا   حاصل    مرے   آگے

منش شکلا