Follow by Email

Monday, 21 July 2014





तमाम   दर्द   को   चेहरे  पे   इक़्तेबास    किया।
कि इक हंसी ने हर इक ग़म को बेलिबास किया।

तुम्हारा  हौसला  रखने  को   हंस   दिए   वरना ,
तुम्हारी  बात  ने  हमको   सिवा  उदास   किया।

न  रास्ते  की   ख़बर  ही  रही  न   मंज़िल    की ,
सफ़र  के शौक़  ने किस दरजा बदहवास  किया।

जहां   से   उठ  के    चले   थे    जहाँनवर्दी    को ,
सफ़र  तमाम   उसी  दर  के  आस  पास  किया।

फ़क़त ख़ुशी ही से वाक़िफ़ थी नासमझ अब तक ,
नज़र को कितनी मशक़्क़त से ग़मशनास किया।

वो  जिसको  कह के  कोई  भूल भी  गया कबका ,
तमाम  उम्र  उस इक  बात  का  ही  पास  किया।

हर   एक    शै   की   ज़रुरत   पड़ी   कहानी    में ,
कभी  ख़ुशी   तो  कभी  ग़म  से इल्तेमास किया।
मनीष शुक्ला







No comments:

Post a Comment