Follow by Email

Tuesday, 29 January 2013

Lucknow


                                       
                                               " लखनऊ "

        वो शहर ए बाग़ ओ गुलसितां  ,
        वो खानकाह  ए   दिलबरां,
        जो  अक्स  था बहार का,
        अलम्बरीं था प्यार का ,
        दयार वो बहिश्त सा ,
        उरूज वो निगार का ,
        कहाँ गया ,कहाँ गया ? ,
        वो कारवां बहार का ,.....
                                                          थीं जिसकी शामें खुशनुमा ,
                                                          थे जिसके रोज़ ओ शब ज़िया ,
                                                          फिज़ा भी खुशगवार थी ,
                                                          ज़मीन  लालाज़ार  थी ,
                                                          सुकून  का  दयार  था,
                                                          सभी का ग़मगुसार था,
                                                          कहाँ गया ,कहाँ गया ?,
                                                          वो कारवां बहार का .........
        हवा में इक नशा सा था ,
        मिज़ाज कुछ जुदा सा था ,
        दिलों में ऐतबार था ,
        ख़ुलूस था क़रार  था ,
        ख़ुदा  का एक मोजिज़ा ,
        था जिसपे हर बशर फ़िदा ,
        कहाँ गया ,कहाँ गया ?,
        वो कारवां बहार का .......

                                                            नहीं थीं ऐसी वहशतें ,
                                                           क़दम क़दम पे नफ़रतें ,
                                                           कहाँ अवध की शाम वो ,
                                                           कहाँ ये शहर ए नौ की ज़ौ ,
                                                           कि  ज़ार ज़ार  रो रहा ,
                                                           चराग़ ये बुझा हुआ ,
                                                           कहाँ गया ,कहाँ गया ?
                                                           वो कारवां बहार का ........
        ये  तेज़  रफ़्त   गाड़ियाँ ,
        ये माल ओ ज़र की आंधियां ,
        ये बदहवास रतजगे ,
        ये लाशऊर क़हक़हे ,
        कहाँ गया ए दिल बता ,
        वो महफ़िलों का सिलसिला ,
        कहाँ गया ,कहाँ गया ?, 
        वो कारवां बहार का ..........
                                                             लुटी हुई ये इस्मतें ,
                                                             ये तार तार अज़्मतें ,
                                                             ये शोर ओ ग़ुल की बस्तियां ,
                                                             ये मुज़्तरिब जवानियाँ ,
                                                             कहेगा कौन अब भला ,
                                                             ये अम्न का मक़ाम था ,
                                                             कहाँ गया, कहाँ गया ?,
                                                             वो कारवां बहार का ........


        कहाँ वो खुशगवारियां ,
        कहाँ ये बेक़रारियां ,
        जो शहर था वफ़ाओं का ,
        हसीन  धूप  छाँव का ,
        वो रफ़्ता रफ़्ता खो गया ,
       ये कैसा हादसा हुआ ?,
        कहाँ गया ,कहाँ गया ?
        वो कारवां बहार का ........
                                                          यहाँ थे "दोस्त बावफ़ा" ,
                                                         "मुहब्बतों से आशना 
                                वो अहल ए दिल की सरज़मीं,
                                                         "कली कली  थी नाज़नीं" ,
                                                           न जाने कैसे हो गया ,
                                                           ये शहर ए लुत्फ़ बदमज़ा  ,
                                                           कहाँ गया ,कहाँ गया ?,
                                                           वो कारवां बहार का .........
        ये दिल बहुत उदास है ,
        फ़िज़ा  में रंग ए यास है ,
        नहीं नहीं ए महजबीं ,
        ये शहर  वो शहर नहीं ,
        कि जिसपे हमको नाज़ था ,
        हसीं नगर वो ख़्वाब  सा ,
        कहाँ गया ,कहाँ गया ?
        वो कारवां बहार का ......

                                                            ज़रा नज़र उठाइए ,
                                                            हुज़ूर कुछ बताईये ,
                                                            वो शहर खो गया कहाँ ,
                                                            वो सरज़मीन ओ आस्मां ,
                                                            कि अब भी जिसका जा ब जा,
                                                             करें हैं लोग तबसरा ,
                                                             कहाँ गया ,कहाँ गया ?,
                                                             वो कारवां  बहार का ..........                                                              
        वो शाम ए खुल्द लाईए  ,
        वो बज़्म फिर सजाइए ,
        थी जिसपे रूह आफ़रीं ,
        वो "लखनऊ की सरज़मीं" ,
        वो जिससे हम थे आशना ,
        वो हमनसब  वो हमनवा ,
        कहाँ गया ,कहाँ गया ?
        वो कारवां बहार का  ,
        दयार वो बहिश्त सा ,
        उरूज वो निगार का ,
        कहाँ गया कहाँ गया ............मनीष शुक्ल

No comments:

Post a Comment