Follow by Email

Saturday, 1 November 2014



चमन में मिरे अधखिली सी कली ये ,
निगार ए बहाराँ से बहकी हुई  है ,
मिरी रूह मेरे घरोंदे की मिटटी ,
तर ओ ताज़ा खुशबु से बहकी हुई है 
                  लहकती चहकती ये अल्हड़ सी  गुड़िया ,
                  थिरकती है आँगन में मुश्क ए हिना सी ,
                  मिरी मुज़्महिल ज़िन्दगी के बदन से ,
                  गुज़रती हुई नर्म दस्त ए सबा सी ,
ये  मासूम ख़्वाबों में डूबी निगाहें ,
न जाने सितारों में क्या  ढूंढ़ती  हैं,
हज़ारों सवालात लेकर अजब से ,
ये मुझसे हवा का पता पूछती हैं ,
                   मैं हैरान होता हूँ अक्सर उलझकर ,
                   तमन्ना की पगडंडियों के भंवर में ,
                   हसीं ख़्वाहिशों की नई  बारिशों में ,
                   चमकते थिरकते हुए इस नगर में ,
मगर सोचता हूँ कि कब तक चलेगा ,
कंवारी तमन्नाओं का सिलसिला ये ,
किसी दिन कहीं पर अचानक रुकेगा ,
हसीं क़हक़हों का रवां क़ाफ़िला ये ,
                    कभी ये कली  गुल में तब्दील होगी ,
                    क़बा ओढ़ लेगी ये संजीदगी की ,
                    बदन के तग़य्युर से मजबूर होकर ,
                    पहन लेगी ज़ंजीर पाकीज़गी की ,
किसी दिन इसे भी ये मालूम होगा ,
कि करनी है इसको भी तख़लीक़ कोई ,
गुज़रना  है उन दर्द के जंगलों से ,
नहीं जिनसे बढ़के  है तारीक कोई ,
                      गिरेगी मुसलसल सवालों की बिजली ,
                      बदन में निगाहों के कांटे चुभेंगे ,
                      बिखर जायेंगे ये हसीं ख़्वाब सारे ,
                      ये गुड़ियों के मेले तमाशे उठेंगे ,
मगर फिर पुकारेगा इक शाहज़ादा ,
नज़र कुछ नए ख़्वाब बुनने लगेगी ,
किसी दिन चमन से बिछड़ना पड़ेगा ,
किसी दिन उमीदों की डोली उठेगी ,
                      सजाऊंगा मैं अपने हाथों से इसको ,
                      किसी मोतबर हाथ में सौंप दूंगा ,
                      इन आँखों से अश्कों की बरसात होगी ,
                      मैं तनहा कहीं पर सिसकता रहूंगा ,
मगर फ़ायदा क्या है रंज ओ फ़ुग़ाँ से ,
हर इक फूल की सिर्फ़ क़िस्मत यही है ,
सफ़र ख़ुशबुओं का बढ़ाना है आगे ,
कि इस ज़िन्दगी की रवायत यही है ,
                      कभी मैंने भी एक सपना बुना था ,
                      कभी चुनके तिनके सजाया था गुलशन,
                      कभी इक कली को किसी के चमन से ,
                      जुदा कर बसाया था अपना नशेमन ,
किसी बाग़बाँ का है इक क़र्ज़ मुझ पर ,
सो मुझको किसी दिन चुकाना पड़ेगा ,
मिरी ज़िन्दगी मेरे सीने की धड़कन ,
तुझे मेरे गुलशन से जाना पड़ेगा ,,,,,
पापा। … खुश रहो हमेशा 
                      

                      
                   
                   

No comments:

Post a Comment