Follow by Email

Wednesday, 28 January 2015



                                                                             ग़ज़ल
                                              दिन  का लावा पीते पीते आख़िर जलने  लगता  है।  
   होते   होते  शाम   समंदर  रोज़  उबलने  लगता  है। 

  ज़ब्त  धुवां होने  लगता है  अंगारों की  बारिश   में ,
     फूल सा लहजा भी उकताकर आग उगलने लगता है। 

   ताबीरों   के  चेहरे देख  के वहशत  होने  लगती   है ,
       नींद में कोई  डरकर  अपने ख़्वाब  कुचलने लगता है। 

इक चेहरा आड़े आ जाता है मरने की ख्वाहिश के ,
  उसको देख के जीने का अरमान मचलने लगता है। 

     मुश्किल ये है वक़्त की क़ीमत तब पहचानी जाती है ,
   जब हाथों से लम्हा लम्हा वक़्त फिसलने लगता है। 

   ये   भी  होता  है  ग़म के  मफ़हूम  बदलते  जाते  हैं ,
    यूँ  भी  होता  है  अश्कों  का  रंग  बदलने लगता  है। 

   अफ़सुर्दा करता है अक्सर शबनम जैसा एक ख़याल ,
   गाहे  गाहे  आकर  रुख  पे ख़ाक सी मलने लगता है। 

   नम  झोंके नमकीन हवा के जिस्म में घुलते जाते हैं ,
  पत्थर  कैसा भी  हो  आख़िरकार पिघलने लगता है। 

  बूँद  को  दरिया  में  खो  देना इतना भी आसान नहीं ,
   मदहोशी  तक  आते  आते  होश  संभलने  लगता है। 

मनीष शुक्ला 







No comments:

Post a Comment