Follow by Email

Thursday, 29 January 2015

   ग़ज़ल

    कोई   तलाश  अधूरी   सी   रह   गयी  मुझमें।
      खटक  रही   है   किसी  बात की  कमी मुझमें।

     बहुत   वसीअ   है   मेरे    ग़मों   की    पहनाई ,
      पनाह  मांगने   लगती   है   हर   ख़ुशी  मुझमें। 

     कहाँ   है  सह्ल   किसी   लफ़्ज़  का  रवां  होना ,
      ठहर   गयी   है   बड़ी   सख़्त  ख़ामुशी मुझ में। 

       सफ़र  की   रस्म  निभाने   को   चल रहा हूँ  मैं ,
        वगरना  ताब ए  सफ़र  अब  कहाँ  बची  मुझमें।

         ख़याल ओ ख़्वाब  पे  काई सी जम गयी आख़िर,
          अज़ल   से   ठहरी   हुई    है   कोई  नदी   मुझमें। 

         अजीब    रंग    रहा    दिल   के   कारख़ाने    का ,
         न   रौशनी   ही   सलामत   न    तीरगी    मुझमें ।

          वो   आस्मां   हूँ   कि   मातम  नसीब  है  जिसका ,
          सितारे   रोज़    ही    करते   हैं  ख़ुदकुशी   मुझमें।

          वो    एक   बार   मिरे   साहिलों    पे    उतरा   था ,
          फिर   उसके  बाद  फ़क़त  रेत   रह   गई   मुझमें।

            मनीष शुक्ला 

                           वसीअ -विस्तृत  ,पहनाई - विस्तार ,सह्ल - आसान ,अज़ल- आदि काल , 


                            
                           

                    


No comments:

Post a Comment