Follow by Email

Tuesday, 5 July 2011

ख़्वाब  का    चेहरा पीला    पड़ते     देखा   है
इक     ताबीर   को    सूली   चढ़ते    देखा  है
इक   तस्वीर   जो   आईने     में   देखी  थी
उसका   इक-इक   नक्श   बिगड़ते  देखा है
सुब्ह से लेकर शाम तलक इन आंखों ने
अपने    ही    साए    को    बढ़ते   देखा    है
उससे   हाल    छुपाना   तो   है    नामुमकिन
हमने     उसको    आँखें     पढ़ते    देखा    है
अश्क   रवां    रखना   ही अच्छा   है वरना
तालाबों     का    पानी    सड़ते     देखा      है
 इक उम्मीद को हमने अक्सर खल्वत में
 एक      अधूरी    मूरत     गढ़ते     देखा    है
दिल     मे  कोई है   जिसको अक्सर हमने
हर   इल्ज़ाम   हमीं  पर    मढ़ते    देखा   है 
           शायर- मनीष शुक्ल
<photo id=1></photo>

7 comments:

  1. Pibloc URL par bloging me aane ka shukriya
    welcome bloging.
    Gajal behtreen hai.

    ReplyDelete
  2. क्या खूब अंदाजे बयाँ

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. आदरणीय मनीष भईया सर्व प्रथम में आपका ब्लॉग जगत में
    तहे दिल से स्वागत........ करता हूँ और उम्मीद करता हूँ की
    आप यूँ ही हम सभी को अपनी उम्दा रचनाओ से नवाजते रहेंगे.....
    आप से मुलाकात के बाद मेने आपको बोग
    जगत में बहुत ढूंढा पर आप नदारद थे |
    आप की वो गजल ...
    आँखों देखी कहता हूँ कोई झूठ नहीं |
    चोट लगा कर कहते हो की रूठ नहीं |
    जहन में तारो ताज़ा है .....
    अब में आपकी गजल पर आता हूँ .......
    मतला ही जब इतना खूबशूरत बन पड़ा है तो गजल तो अच्छी होनी है....
    ख़्वाब का चेहरा पीला पड़ते देखा है
    इक ताबीर को सूली चढ़ते देखा है
    और ये बेहद उम्दा शेर ...
    उससे हाल छुपाना तो है नामुमकिन
    हमने उसको आँखें पढ़ते देखा है
    और ये भी
    दिल मे कोई है जिसको अक्सर हमने
    हर इल्ज़ाम हमीं पर मढ़ते देखा है
    बहुत खूब ..........मन गए ....एक अनोखी मिठास है आपकी
    लेखनी में
    बधाइयाँ स्वीकारें...................!

    ReplyDelete
  5. bahut bahut shukria bhai p singh,mamnoon hoo'n

    ReplyDelete
  6. ashok shukla sahab apko bahut dhanyawad ke aap ne nazar e inayat farmaee

    ReplyDelete