Follow by Email

Tuesday, 11 July 2017

 हमसफ़र   तू  मिरा  ख़याल  न  कर।
 अपने   रस्ते   पे  जा  मलाल  न  कर।

  अब   मरज़   रास  आ  गया  मुझको ,
 अब   तबीयत   मिरी  बहाल  न  कर।

  दास्ताँ    सुन    तो    ले    ज़रा   पूरी ,
  बीच   में    रोक  के   सवाल  न   कर।

  आग    जैसी   है    इश्क़  की   सीरत ,
  ख़ाक   हो   जाएगा  विसाल  न   कर।

    इक  भरम   ही  बनाए  रख कुछ दिन ,
  आना   जाना   मिरा  मुहाल   न   कर।

    अपने  ख़्वाबों   को   दूर   रख   मुझसे ,
    मेरी  ख़ल्वत   में    इख़्तिलाल  न  कर। 

     इश्क़    के    ख़्वाब    पाक   होते    हैं ,
     इश्क़    के   ख़्वाब  पायमाल   न   कर।
मनीष शुक्ला 



No comments:

Post a Comment