Follow by Email

Saturday, 1 July 2017



      कोई   समझे  तो  क्या  समझे   मिरे  ग़म  के  मआनी  भी। 
      मिरे    होंठों   पे   नग़मा   भी   मिरी  आँखों  में   पानी  भी। 

      तिरे    चेहरे   से   मिलती   है   मिरे    अशआर  की    रंगत ,
      गुलाबी    है    ज़रा    सी    और    थोड़ी    आसमानी    भी। 

      इधर   दहशत   सी   होती  है  शब्  ए  ग़म  के  फ़सानों  से ,
      उधर   अच्छी    नहीं   लगती   मुहब्बत   की   कहानी  भी। 

     बहुत   कुछ   कह  दिया   उसने  असर  अंदाज़  लफ़्ज़ों  में ,
     बहुत   कुछ   कह  गई  लेकिन   किसी की  बेज़ुबानी   भी। 

     मिरा  सब   हाल  उस  से   हू   ब  हू   जाकर  बयां   करना ,
       ये   जो   तहरीर   है   ख़त    में   यही   कहना   ज़ुबानी   भी। 

       कभी     मैं     पार   कर    जाऊंगा   सरहद   बेयक़ीनी   की ,
       किसी     दिन    दूर     हो    जाएगी   तेरी    बदगुमानी   भी। 

       बड़ी    क़ीमत     चुकानी    पड़    गई    शायद   मसर्रत  की ,
        बहुत     ग़मगीन     सी   क्यूँ   है    तुम्हारी    शादमानी    भी। 
मनीष शुक्ला 






No comments:

Post a Comment