Follow by Email

Friday, 14 July 2017



रौशनी  और    रंग   के   रक़्सां    सराबों  की  तरफ़। 
आओ  तुमको  ले  चलें  हम  अपने ख़्वाबों की तरफ़। 

कैसी   कैसी    महफ़िलें   बरपा   किये   बैठे  हैं  हम ,
देख  लो   आकर   कभी  अपने  ख़राबों  की  तरफ़। 

भूल   बैठे     थे    ज़मीं    के    आदमी   की    सरहदें ,
हम   भी  माईल  हो    गए  थे  माहताबों की   तरफ़। 

इक  मुसलसल  बेकली , ख़दशा , अजब सी शोरिशें ,
 ग़ौर  से    देखो   कभी   रौशन   शिहाबों   की  तरफ़। 

ज़िन्दगी    पहले     सवालों    पर    हमारे   हंस   पड़ी ,
फिर   इशारा   कर   दिया  सूखे  गुलाबों  की   तरफ़। 

हम   किताबों   से   निकलकर   ज़िन्दगी  पढ़ने   गए ,
 थक  के लेकिन लौट  आये  फिर  किताबों की  तरफ़। 

 हम  कभी   तै   ही  नहीं  कर   पाए   अपनी  क़ैफ़ियत ,
 कब  गुनाहों  की  तरफ़   है  कब   सवाबों  की  तरफ़। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment