Follow by Email

Saturday, 1 July 2017



  किसी  किरदार  के  तेवर कभी शल  हो नहीं  सकते। 
  हमारी    दास्ताँ  के   बाब   बोझल   हो  नहीं   सकते। 

  अंधेरा   भी   ज़रुरत   है  ,   उजाला   भी   ज़रुरत   है ,
   हमारी  ज़िन्दगी   के  मसअले  हल   हो  नहीं  सकते। 

  अधूरा    दायरा    हो   तुम   ,  अधूरा   दायरा  हैं   हम ,
    बिना  यकजा   हुए  दोनों  मुकम्मल  हो  नहीं  सकते।  

   तुम्हारी  उँगलियों  में  कुछ  न कुछ  जादू यक़ीनन है ,
    वगरना  ज़ख़्म  छू  लेने   से  संदल  हो   नहीं   सकते। 

      उधर  अब  होश में रहना किसी  सूरत  नहीं  मुमकिन ,
     इधर  मजबूरियां  ऐसी   कि  पागल  हो  नहीं   सकते। 
मनीष शुक्ला 




No comments:

Post a Comment