Follow by Email

Saturday, 1 July 2017



किसी  किरदार  के  तेवर कभी  शल  हो  नहीं  सकते। 
हमारी    दास्ताँ  के   बाब   बोझल   हो  नहीं   सकते। 

अँधेरा   भी   ज़रुरत   है  ,   उजाला   भी   ज़रुरत   है ,
 हमारी  ज़िन्दगी   के  मसअले  हल   हो  नहीं  सकते। 

तुम  अपनी  बात के ख़ुद ही नहीं क़ाएल हुए अब तक,
  तुम्हारी   बात  के  हम  लोग क़ाएल  हो  नहीं  सकते।  

  अधूरा    दायरा    हो   तुम   ,  अधूरा   दायरा  हैं   हम ,
  बिना  यकजा   हुए  दोनों  मुकम्मल  हो  नहीं  सकते। 

   सवाली    हैं    तुम्हारे   हुस्न   के   लेकिन   सलीक़े  से ,
   तुम्हारे  आस्तां   पे   आके   साएल   हो   नहीं   सकते। 

  तुम्हारी  उँगलियों  में  कुछ  न कुछ  जादू यक़ीनन है ,
   वगरना  ज़ख़्म  छू  लेने   से  संदल  हो   नहीं   सकते। 

   उधर  अब  होश में रहना किसी  सूरत  नहीं  मुमकिन ,
   इधर  मजबूरियां  ऐसी   कि  पागल  हो  नहीं   सकते। 
मनीष शुक्ला 




No comments:

Post a Comment