Follow by Email

Wednesday, 19 July 2017



कभी  ज़िद  पर  उतर  आते  कभी  हद  से  गुज़र जाते। 
अगर  यकजाई  मुश्किल थी  तो बेहतर था बिखर जाते। 

कभी  तुम  ने  तह  ए   दिल  से   मुदावा  ही  नहीं  चाहा ,
वगरना   ज़ख़्म   ऐसे    थे   कि  छूने   से   ही  भर   जाते 

मुहब्बत   का   भरम   रक्खे    रहीं   महरूमियाँ   वरना ,
मयस्सर  हो   गए   होते   तो  हम  दिल  से  उतर   जाते। 

कोई  रहता   नहीं   अब   उस   गली   में  जानने   वाला ,
मगर  डरता  है  अब  भी  दिल  न जाने क्यूँ  उधर  जाते।

किसी   सूरत  निकलती   तो    तिरे   दीदार   की   सूरत ,
तो हम  तुझसे न मिलने  की  क़सम  से  भी मुकर जाते। 

यही    इक    आस्ताना    है    ज़माने    में    ख़राबों   का ,
तिरे   दर   तक  नहीं  आते   तो   दीवाने    किधर   जाते। 

बिगड़   कर   ठीक    होने    ने   हमें  बरबाद  कर  डाला,
बिगड़ते   ही   गए  होते   तो   मुमकिन   था  संवर  जाते। 
मनीष शुक्ला   






No comments:

Post a Comment