Follow by Email

Thursday, 9 February 2017

बहलने  लगी   है   ज़रा   सी     नमी    से। 
भरोसा   ही   उठने    लगा   तिश्नगी    से ,

बहुत   बेनियाज़ी    दिखाई    थी    हमने ,
सो   वो   भी  जुदा  हो   गया  बेरुख़ी   से। 

बहुत  दिन  का  ग़ुस्सा   उतारा किसी  ने ,
अचानक  अलग   हो   गया ज़िन्दगी  से। 

तुम्हें   हम   सुनाते    हैं  अपनी   कहानी ,
मगर  इस  का  चर्चा  न  करना किसी से। 

तुम्हारे     लिए     ग़म      उठाने    पड़ेंगे ,
तुम्हें    हमने  चाहा   है  अपनी ख़ुशी से। 

अब  उस  के पलटने  का इम्कां  नहीं   है ,
वो   उठकर    गया   है  बड़ी  बेदिली   से। 

बहुत   बेतकल्लुफ़   न  हो  पाए  हम भी ,
सो   वो  भी  न  आगे  बढ़ा दिल्लगी  से। 

हमें    आज    अपने    अँधेरे    मिले    हैं ,
मुख़ातिब     हुए   हैं    नई   रौशनी    से। 

बस अब याद आने की ज़हमत न करना ,
तुम्हें   हम  भुलाते  हैं  लो  आज  ही   से। 
मनीष शुक्ला 


No comments:

Post a Comment