Follow by Email

Thursday, 16 February 2017



दिल   भी    जैसे   हमारा  कमरा  था।
कुल    असासा  ज़मीं  पे  बिखरा  था।

आसमां   ही    उठा   लिया   सर   पे ,
 जाने   क्या  कुछ ज़मीं पे  गुज़रा  था।

   फिर     नई    ख़्वाहिशें    उभर   आईं ,
   दिल   अभी   हादसों    से   उबरा   था।

  चाँद    की    चांदनी    बजा   लेकिन ,
  रंग   उसका  भी   साफ़   सुथरा   था।

   क्या  हुआ   डूब  क्यूँ    गया  आख़िर,
      ख़्वाब   तो   साहिलों  पे  उतरा   था।    

  आशियाँ   तो   बना    लिया   लेकिन ,
  अब   हमें   आँधियों  का   ख़तरा  था।

  अब   फ़क़त    ज़िन्दगी   बिताते  हैं ,
  वरना   अपना  भी  नाज़  नख़रा  था।
मनीष शुक्ला


No comments:

Post a Comment