Follow by Email

Tuesday, 14 February 2017



कई   चेहरे   सलामत  हैं   कई  यादें  सलामत  हैं। 
अभी   टूटे   हुए  दिल की कई किरचें सलामत  हैं। 

 ख़यालों  की   लकीरें   क्यूँ  अधूरे ख़्वाब बुनती  हैं ?
 न   अब  ताबीर  बाक़ी है न वो आंखें  सलामत  हैं। 

   अभी  चस्पा   है   मेरे    ज़ेह्न   पे  सहरा का  सन्नाटा  ,
  अभी ख़्वाबों में जलती प्यास की चीख़ें सलामत हैं। 

  भला  तनहाई  में  सूना  शजर  किस  से  हंसे बोले ,
  न  अब  ताइर सलामत हैं न ही  शाख़ें सलामत हैं। 

  ये  है  बेहतर  हुदूद ए  वक़्त  के बाहर निकल जाएं ,
    यहाँ  अब  दिन  सलामत  हैं  न ही रातें सलामत हैं। 

    मुसलसल  हाफ़िज़े  पर  वक़्त की चोटें पड़ीं लेकिन ,
   तिरी  ख़ुशबू  सलामत  है  तिरी  बातें  सलामत  हैं। 

    अभी  इनकार  की  जुरअत दहकती है मिरे दिल में ,
    अभी  तक  जिस्म में कुछ ख़ून की बूँदें सलामत हैं। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment