Follow by Email

Thursday, 19 May 2016



सितारों  की सफ़ों को ताकते रहना  क़यामत  तक। 
हमारा    काम  है  बस  जागते रहना क़यामत  तक। 

हम  अपने ख़्वाब  दे  जाएंगे तुमको ख़्वाब में आकर ,
फिर उसके बाद खुद को देखते रहना क़यामत तक। 

तुम्हारी   मस्लहत  है  हर  सदा को मुन्जमिद करना ,
हमारा    मश्ग़ला  है   चीख़ते  रहना  क़यामत   तक। 

हमारे  बख़्त  में  लिखा  हुआ  था इक  ख़ता  करना ,
फिर उसके बाद उसको सोचते रहना क़यामत तक। 

तुम्हें   अलफ़ाज़ की  सूरत  मुजस्सम कर रहे हैं  हम ,
हमारी    दास्ताँ   में  गूंजते    रहना   क़यामत   तक। 

हमारे   बाद   हम   जैसा   कोई   आने   नहीं   वाला ,
हमारे  बाद   हमको   ढूंढते   रहना   क़यामत   तक। 

कोई   लम्हा  हमें  लेकर  गुज़र  जाता  तो  अच्छा था ,
बहुत मुश्किल है  तन्हा  बीतते  रहना  क़यामत  तक। 

मनीष शुक्ला 


No comments:

Post a Comment