Follow by Email

Thursday, 19 May 2016




ख़ाकबस्ता    शिहाब    कितने   थे !
महव   ए  सहरा  सराब कितने  थे ?

कोई    ताबीर  तक  नहीं    पहुंचा ,
शब की आँखों में ख़्वाब कितने थे!

ख़ूब  रौनक़  थी तेरी  महफ़िल  में ,
हम   से  ख़ानाख़राब  कितने   थे ?

सब     सवाली   थे   माहपारों   के ,
मुन्किर   ए   माहताब   कितने  थे ?

तेरी     आवाज़    पर    सदा    देते ,
इतने  हाज़िर   जवाब   कितने  थे ?

रहरवान     ए   तरब   हज़ारों    थे ,
माइल    ए  इज़्तिराब   कितने  थे ?

आशिक़ों    का   हुजूम  था लेकिन ,
इश्क़   में   कामयाब   कितने    थे ?

लाख   मजनूं   थे   इस   ख़राबे  में ,
दश्त   को   दस्तयाब   कितने   थे ?

मनीष शुक्ला 




No comments:

Post a Comment