Follow by Email

Saturday, 28 May 2016




     बात    कहने   की   छुपानी     थी    हमें। 
      कुछ   कहानी   तो   सुनानी     थी    हमें। 

     हो     गए    राज़ी   उजड़ने    के     लिए ,
    इक    नई   दुनिया   बसानी   थी   हमें। 

     कब  तलक   तूफ़ान   की   रखते   अना ,
     नाव   साहिल    पर   लगानी   थी   हमें। 

     हम    अकेले    ही    सफ़र   करते    रहे ,
       ख़ाक   आख़िर   तक   उड़ानी   थी   हमें। 

       हम   बिना  रख़्त  ए  सफ़र  के चल  पड़े ,
        राह   में   मुश्किल   उठानी    थी    हमें।   

        जाने  क्यों  देखा   हुआ  लगता  था  सब ,
       हर     नई    सूरत    पुरानी     थी    हमें। 

        अब   उसी  को   भूलने   लगते   हैं    हम ,
        वो    कहानी    जो    ज़ुबानी    थी    हमें। 

मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment