Follow by Email

Monday, 12 June 2017




काम     बेकार    के   किये   होते। 
काश   हम   ठीक  से   जिए  होते। 

रक़्स    करते    ख़राबहाली    पर ,
  अश्क   ए ग़म   झूम कर पिए होते। 

 दर्द   नाक़ाबिल    ए   मुदावा   था ,
 हाँ   मगर   ज़ख्म  तो  सिए  होते। 

 दर  हक़ीक़त तो ख़्वाब थी दुनिया ,
 हम  भी  ख़्वाबों  में जी  लिए होते। 

एक  ख़्वाहिश ही रह गयी दिल में ,
 हम   तिरे   ताक़    के  दिए   होते। 

  तू    न  होता  तो  इस   ख़राबे  में ,
 सब   के   होंठों  पे  मरसिए  होते। 

बज़्म   अपने    उरूज   पर  होती ,
और  हम  उठ  के  चल  दिए होते। 

नामुकम्मल   रही   ग़ज़ल   अपनी ,
काश  कुछ   और  क़ाफ़िए   होते। 



No comments:

Post a Comment