Follow by Email

Tuesday, 20 June 2017



    आख़िरी  बयानों  में   और न  पेशख़्वानी  में। 
    हम   कहीं  नहीं   आते  आपकी कहानी   में। 

   हम  तमाम   रस्ते   पर  बारहा  मिले  लेकिन 
     देख    ही    नहीं   पाए   आप   बदगुमानी  में। 

      इख़्तिलाफ़   किरनों   का  ऊपरी दिखावा था ,
    एक   हो    गए   सारे   रंग   गहरे   पानी   में। 

     इनसे   तुम  अकेले   में गुफ़्तगू  किया करना ,
     लफ़्ज़   देके  जाएंगे   हम   तुम्हें  निशानी  में। 

    आज    वो   परीचेहरा  बात   कर गया हमसे,
      नाम  तक  नहीं  पूछा  हमने   शादमानी   में। 

      एक   बार  रूठे   तो   लौट   कर  नहीं  आये ,
       चूक   हो   गयी   हमसे   अपनी  मेज़बानी  में। 

        तुम  ज़रा  से   ज़ख़्मों  से तिलमिलाए बैठे  हो ,
        सर  कटाए   बैठे    हैं   लोग   हक़बयानी   में। 

मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment