Follow by Email

Tuesday, 20 June 2017




वक़्त    पैग़ाम    का    नहीं   शायद। 
अब   मरज़   नाम  का  नहीं  शायद। 

इसका चाहा  न कुछ हुआ अब तक ,
दिल   किसी  काम  का नहीं शायद। 

अब    सहीफ़े    ज़मीं   से   उगते  हैं ,
 दौर    इल्हाम    का   नहीं    शायद। 

  उतरा   उतरा ,   सियाह  , अफ़सुर्दा  ,
 रंग    ये   शाम   का    नहीं    शायद। 

 ख़ामुशी      की     तनाब    टूटी    है ,
शोर   कुहराम    का   नहीं   शायद। 

इश्क़     करना    तबाह   हो   जाना ,
काम     ईनाम    का   नहीं   शायद। 

मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment