Follow by Email

Monday, 12 June 2017




ग़म   ख़ुशी  अच्छा  बुरा  सब ठीक था। 
ज़िन्दगी   में  जो  हुआ  सब  ठीक  था। 

 आज    वीराने    में   आकर   ये   लगा ,
शोर ओ ग़ुल मौज ए बला सब ठीक था। 

  ज़िन्दगी   जैसी   भी    थी   अच्छी  रही ,
बेसबब  जो  कुछ  किया  सब ठीक था। 

 अब   ख़ला   में  आके   अंदाज़ा   हुआ ,
 आंधियां  बाद  ए  सबा  सब  ठीक  था। 

  अब  कहानी  से  निकल  कर  ये  लगा ,
  इब्तेदा   ता   इन्तेहा   सब   ठीक   था। 

   वो   सफ़ीना  ,  वो समन्दर   , वो  हवा ,
  वो    उबरना   डूबना   सब   ठीक   था। 

    कम   से  कम  साथी  मयस्सर था कोई ,
   बेवफ़ा    या   बावफ़ा   सब   ठीक  था। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment