Follow by Email

Monday, 19 June 2017



अपने   होने   की  तलब  करते   हैं  हम।
क़ैद   ए   हस्ती  मुन्तख़ब करते  हैं हम।

  जाने   क्यूँ   अक्सर   ये  लगता  है  हमें ,
काम     सारे    बेसबब   करते  हैं   हम।

 ज़िन्दगी   को  आज   तक समझे  नहीं ,
 अब तलक नाम ओ  नसब करते हैं हम।

   आरज़ू    हमको    तबस्सुम   की   मगर ,
   आंसुओं   का   भी  अदब   करते  हैं  हम।

  जिन  ज़मीनों   पर  कोई   चलता  नहीं ,
   उन  ज़मीनों  पर   ग़ज़ब  करते  हैं  हम।

  क्या  हुआ?,  होगा , हुआ  जाता है क्या,
   इसकी  कुछ परवा  ही कब करते हैं हम।

   लोग    हैरानी    से     तकते     हैं    हमें ,
  काम   ही   ऐसे   अजब  करते   हैं  हम।

मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment