Follow by Email

Monday, 19 June 2017




  जीने   से    इंकार    किया   जाता   है    क्या ?
  ख़ुद   से  इतना   प्यार  किया  जाता है  क्या ?


   नक़्शतराशी    की    काविश   तस्लीम   मगर ,
  ख़ुद   को  यूँ  मिस्मार   किया  जाता  है क्या ?

   एक     मुकम्मल      दश्तनवर्दी     काफ़ी    है ,
  कार  ए   जुनूँ   हर  बार  किया जाता है क्या ?

    इश्क़    मरज़  अच्छा  तो  है  लेकिन ख़ुद  को ,
    इस    दरजा    बीमार   किया   जाता  है  क्या ?

    चाहत    का    इज़हार   ज़रूरी    है  फिर  भी ,
     चाहत    का   इज़हार   किया   जाता   है  क्या ?

      आग   का   दरिया   आग   का  दरिया  होता  है ,
      आग  का   दरिया   पार   किया  जाता  है  क्या ?

    लहजे    में   कुछ  धार   ज़रूरी    है   लेकिन ,
      लहजे   को   तलवार   किया   जाता   है   क्या ?

       जिस   लम्हे   से   सदियों   की  तौफ़ीक़   मिले ,
        वो    लम्हा    बेकार    किया    जाता    है   क्या ?

      दुनिया    है    दरअस्ल     सराबों     का   मेला ,
      मेले   को   घर  बार   किया   जाता    है   क्या ?
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment