Follow by Email

Saturday, 24 June 2017



पहले  चेहरा   किताब   बनता  है। 
फिर वो खुलकर निसाब बनता है। 

  जाने   कितने   शिहाब   बुझते   हैं ,
  तब   कोई   आफ़ताब  बनता    है। 

 नूर      की    पुरसिशें    ज़रूरी   हैं ,
  नूर     से    माहताब     बनता   है। 

  बस   क़रीने   से   हर्फ़  लग   जाएं ,
   लफ़्ज़   से    इन्क़िलाब   बनता है। 

  मुद्दतों     हाथ    में    नहीं   आता ,
   यूँ   तो   वो  दस्तयाब   बनता   है। 

   लम्हा    लम्हा    शरीक   होता   है ,
  मुद्दतों     में   अज़ाब    बनता   है। 

    हमको   हर  रोज़  शब्  सिखाती है ,
    हमसे  हर   दिन  ख़राब  बनता  है। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment