Follow by Email

Monday, 19 June 2017



 ज़िन्दगी   से    प्यार  कर  बैठे  थे  हम। 
हाँ   कभी   इक़रार  कर  बैठे  थे  हम। 

 फिर  सफ़र  की  शोख़ियां  जाती  रहीं ,
रास्ता   हमवार    कर    बैठे   थे   हम। 

बेझिझक    इक़रार   करना   था  जहाँ ,
बेसबब   इन्कार   कर   बैठे    थे   हम। 

जिस्म   की    ही   पुरसिशें  करते   रहे ,
रूह    को   बेकार   कर  बैठे   थे  हम। 

बरकतें    जाती       रहीं    ताबीर   की ,
ख़्वाब   को   बाज़ार   कर  बैठे थे  हम। 

फिर   हमारा  दिन  बहुत  बरहम  रहा ,
रात  को   बेज़ार   कर    बैठे   थे   हम। 

 हम  को जन्नत  से  निकाला  क्यूँ  गया ?
इश्क़   का   इज़हार  कर  बैठे  थे  हम। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment