Follow by Email

Saturday, 24 June 2017



  दर्द   छूने  से   मिरे   बढ़ता  है   क्या? 
 ख़ार  सीने  में  कहीं  गड़ता  है  क्या ?

 क्या  कोई  मतलब  नहीं  तदबीर का?
  ज़िन्दगी  से   हारना   पड़ता  है  क्या ?

   तुमने तो बिलकुल किनारा कर  लिया ,
   ख़ुद  से  भी  ऐसे  कोई  लड़ता है क्या ?

     तुम कभी  ख़ुद  को  छिड़क कर देखना ,
    रंग  मुझ  पर  भी कोई  चढ़ता है क्या ?

      है  अभी   तुझको  परस्तिश  पर  यक़ीं ,
      तू   अभी   तक  मूरतें  गढ़ता  है  क्या ?

     क्या   यहाँ    कोई   नहीं   हामी   तिरा ,
       हर  कोई   इलज़ाम  ही  मढ़ता  है क्या ?

      वक़्त  के   सफ़हे   पलटता    जाये   है ,
       रात  दिन  मुझको  कोई पढ़ता है क्या ?
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment