Follow by Email

Saturday, 24 June 2017



 तुझसे   मिलने   का  इरादा  तो  नहीं  करते   हैं। 
 फिर  भी मिलने पे  किनारा  तो  नहीं  करते   हैं। 

   ख़ुद   को  हर  बात   बताते  भी  नहीं   हैं  लेकिन ,
   ख़ुद   से   हर  बात  छुपाया   तो   नहीं  करते  हैं। 

    तुझसे  मिलने   तिरी  महफ़िल  में  चले  आते  हैं ,
   तुझसे   उल्फत  का  तक़ाज़ा  तो नहीं  करते  हैं। 

     बस  तिरा   नाम  लिया  करते हैं दिल ही दिल में ,
    तुझको    हर   वक़्त   पुकारा  तो  नहीं  करते   हैं।

     होके    मजबूर   किया   करते   हैं   तस्लीम  हमें ,
      हमको   सब   लोग   गवारा   तो   नहीं   करते  हैं। 

       सच    बता   यार   कि   हम  तेरा  सहारा   बनकर ,
      तेरी   लग़ज़िश   में  इज़ाफ़ा   तो   नहीं   करते  हैं। 

         कुछ  तो  कहते   हैं  चमक  कर ये  सितारे आख़िर  ,
        हमसे   मिलने  का   इशारा   तो   नहीं    करते   हैं। 

मनीष शुक्ला 




No comments:

Post a Comment