Follow by Email

Thursday, 29 June 2017


 सौ     किरदार    निभाने    पड़ते   हैं    हमको। 
 क्या    क्या    भेस   बनाने   पड़ते   हैं   हमको। 

  आख़िर     तक    हम     बेचेहरा   हो   जाते   हैं ,
  इतने      रूप     सजाने     पड़ते    हैं     हमको। 

 ख़द   ओ   ख़ाल    से  सब  ज़ाहिर  हो जाता है ,
 ख़द     ओ   ख़ाल   छुपाने   पड़ते   हैं   हमको। 

  रफ़्ता    रफ़्ता     हर     शै   से   कट   जाते   हैं ,
  इतने     रब्त     निभाने     पड़ते    हैं    हमको। 

    ख़ार      हमारा        रंग      उड़ाते       रहते    हैं ,
    गुल     से      रंग    चुराने    पड़ते     हैं   हमको। 

    हम   ख़ुद    पर    हर   बार   भरोसा   करते    हैं ,
     दुःख     हर    बार    उठाने    पड़ते     हैं   हमको। 

    अपने    ज़ख़्म   गिनाना    कितना  मुश्किल  है ,
     अपने     ज़ख़्म    गिनाने    पड़ते      हैं    हमको। 

     सहरा     की     वीरानी     से      दहशत    खाकर ,
     कितने     शह्र     बसाने     पड़ते     हैं      हमको। 
     सारी       रात      सुलगते       रहते       हैं    तारे ,
     सारी      रात     बुझाने      पड़ते      हैं     हमको। 
\मनीष शुक्ला 




No comments:

Post a Comment