Follow by Email

Saturday, 17 June 2017



माज़ी  में  खुलने  वाले  हर  बाब  से  लिपटी  रहती  हैं। 
जाने  वालों   की  यादें  असबाब से  लिपटी   रहती  हैं। 

अहल  ए  सफ़र तो गुम हो जाते हैं दरिया की लहरों में ,
कश्ती  की  टूटी  बाहें  गिरदाब  से  लिपटी  रहती   हैं। 

  कभी कभी कुछ ऐसे दिलकश मंज़र दिखते हैं शब् भर ,
 नींद  भी खुल जाए तो आँखें  ख़्वाब से लिपटी रहती हैं। 

तर्क ए तअल्लुक़ ख़त्म नहीं कर पाता है अहसासों को ,
  रिश्तों  की  टूटी  कड़ियाँ  अहबाब  से लिपटी  रहती हैं। 

तूफ़ानों   का  ज़ोर  बहा  ले  जाता  है   बुनियादों   को ,
रेज़ा   रेज़ा   तामीरें    सैलाब   से   लिपटी   रहती   हैं। 

 उजड़े    घर  की  वीरानी  का सोग मनाने  की ख़ातिर ,
 ख़स्ता  छत  की  शहतीरें  मेहराब  से लिपटी रहती हैं। 

 उसको  दिन भर तकते तकते डूब तो जाता है लेकिन। 
 सूरज  की  बुझती  नज़रें  महताब से लिपटी  रहती हैं। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment