Follow by Email

Tuesday, 20 June 2017



जब  आसमान  का समझे नहीं इशारा तुम। 
तो फिर ज़मीं को कहाँ रह सके गवारा तुम। 

तुम्हारे    दैर   का  सबसे   हक़ीर   ज़र्रा  हम ,
हमारे  चर्ख़  का  सबसे  हसीं  सितारा   तुम। 

अब  इसके  बाद  हमें  दीद  की नहीं  हाजत ,
नज़र  के  वास्ते  हो  आख़िरी  नज़ारा   तुम। 

बढ़ा  के  क़ुर्बतें  बीमार  कर   दिया   हमको ,
अब  आके  हाल  भी पूछो कभी हमारा तुम। 

तुम्हारी  आग   में  जलते  हुए  सरापा  हम ,
हमारी   राख  से  उठता  हुआ  शरारा  तुम। 

तुम्हारी  बात  पे  हमको  हसीं  सी  आती है ,
हमारा   हाल  न   पूछा  करो  ख़ुदारा   तुम। 

हमारे    साथ  से   तुम  मुत्मईं   नहीं   लगते ,
हमारे  साथ  में  करते  तो  हो  गुज़ारा  तुम। 

मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment