Follow by Email

Saturday, 17 June 2017



उसने  मुमकिन   है  आज़माया हो। 
वो     बहाने    से    लड़खड़ाया   हो। 

हो   भी  सकता  है  भीड़  में  इतनी ,
वो   मुझे    देख   ही   न  पाया   हो। 

नींद    टूटी   हो  ये  भी मुमकिन है ,
हो   भी  सकता है  ख़्वाब आया हो। 

क्यूँ किसी ग़म को मैं करूँ रुख़सत ,
एक  आँसू   भी   क्यूँ   पराया   हो।  

काश   वो   जंगलों   में  भटका  हो ,
और   रस्ता   न   भूल   पाया    हो। 

अब   कोई   फ़र्क़   ही  नहीं  पड़ता ,
धूप   बरसे   कि   सर  पे साया हो। 

तब   चमक  देख  सब्ज़ाज़ारों  की ,
दश्त   जब  धूप   में   नहाया    हो। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment