Follow by Email

Thursday, 30 June 2016

कुछ   उदासी  शाम   की  हल्की  करो। 
आ  भी  जाओ  यार  अब  जल्दी करो। 

पड़  गया  फिर  से  उजालों का  क़हत ,
आ  के   थोड़ी    रौशनी    जारी   करो। 

सारी    बातें    लामुनासिब    हैं    यहाँ ,
ख़ुद को किस किस बात पे राज़ी करो। 

रात  के  पहलू  में   रहना  है  तो  फिर ,
रात    की     फ़रमाइशें      पूरी   करो। 

चाँद   से    परदा    हटाओ    अब्र   का ,
बेसबब   ये   रात   मत   काली   करो। 

तुमको  जल्दी  है   पहुँचने  की   मगर ,
मोड़  पर   रफ़्तार    तो    धीमी   करो। 

बाम  ओ  दर  कितने  पुराने  हो   गए ,
वक़्त  है  अब  तुम  ये घर ख़ाली करो। 

बस  मुहब्बत  का   भरम    रखे   रहो ,
झूट   बोलो   या   कि   अय्यारी  करो। 

कोई  तो   रस्ता    निकालेगी    सहर ,
तुम   अभी  से  जी  न  यूँ  भारी  करो। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment