Follow by Email

Saturday, 4 June 2016





एक    कोहराम   सा   हर  वक़्त  उठाए   रखें। 
आप       माहौल      बहरहाल     बनाए    रखें। 

 राज़  खुल  जाए  तो  सब लोग  बग़ावत कर दें ,
 ये    ज़रूरी  है   कि  हम   परदा  गिराए   रखें। 

 अक़्लमंदी    का  तक़ाज़ा  तो  नहीं  है फिर भी ,
 हमने    सोचा   है    तिरे   साथ   निभाए   रखें। 

  कौन  सुनता है  यहाँ  किसकी  सदायें   लेकिन ,
 हम पे   लाज़िम  है   कि  हम शोर  मचाए रखें। 

  इन    अंधेरों   पे   कोई   फ़र्क़  नहीं  पड़ना    है ,
 अब    चराग़ों   को  बुझा   दें  या  जलाए   रखें। 

   कितना मुश्किल  है  करें  तल्ख़ बयानी उस पर ,
  अपने    होंठों   पे   तबस्सुम   भी   सजाए  रखें। 

 सर्फ़   होना    है   बहरहाल   फ़ना   होना    है ,
  ख़ुद   को   हम  ख़र्च  करें  या  कि  बचाए रखें। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment