Follow by Email

Thursday, 9 June 2016





दर्द ए दिल ज़ख़्म ए जिगर पर कोई। 
इक   ग़ज़ल  और   सुख़नवर   कोई। 

चाप  सुनता  हूँ  मुसलसल   दिल  में ,
साथ     मेरे       है    बराबर     कोई। 

कोई     देखे     तो     निहारे    पहरों ,
रूप    है   या   कि    समंदर    कोई। 

जैसे    क़तरे      में     समाए    दरिया 
ऐसे   सिमटा   है   बिखरकर   कोई। 

सारी   ख़ुश्बू      थी     पराई    ख़ुश्बू ,
हमको    रखता   था  मुअत्तर   कोई। 

हमको   करनी    हैं   बहुत  सी  बातें ,
पास    बैठे   तो    घड़ी   भर    कोई। 

अपना    पैग़ाम   सुना   ले   ख़ुद  को ,
अब    न    आएगा    पयम्बर    कोई। 
मनीष शुक्ला 

No comments:

Post a Comment