Follow by Email

Thursday, 9 June 2016


तुम  अपने  ख़्वाबों  के  पीछे  यार  मिरे  हैरान  बहुत   हो। 
इस काविश में हो सकता है आँखों का नुक़सान बहुत हो। 

अपनी   वहशत   लेकर   सहरा  नाप  रहे  हो  उजलत   में ,
मुमकिन  है उस पार का मंज़र इस से भी वीरान बहुत हो। 

जिसकी    दानाई    के    चर्चे    गूँज    रहे   हैं    बस्ती    में ,
हो  सकता  है  वो  दाना  भी  हम  जैसा नादान  बहुत हो। 

शायद   उसको  खो   देने   में  मुश्किल  आड़े  आती   हो ,
शायद  उसको  पा  लेना  ही  दुनिया में आसान बहुत हो। 

हो   सकता   है   असली   चीज़ें   वीराने   में   मिलती   हों ,
मुमकिन  है  इन  बाज़ारों  में  मसनूई  सामान  बहुत  हो। 

जिन  बातों   का  यार  हमारे  बिलकुल  पास  नहीं  करते ,
उन  बातों  का  हो सकता है महफ़िल में ऐलान बहुत हो। 

जिसका  कोई  ध्यान  नहीं  हो  वो  मिल  जाता है  लेकिन ,
अक्सर वो ही खो जाता है जिस पल का इमकान बहुत हो। 
मनीष शुक्ला 





No comments:

Post a Comment